मुठभेड़ में मारे गये 65 लड़ाके,गणेश उइके ने विज्ञप्ति जारी कर स्वीकारा

जगदलपुर – दक्षिण सब जोनल ब्यूरो भारत की कम्युनिस्ट पार्टी माओवादी प्रवक्ता गणेश उईके ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर स्वीकारा है कि इस वर्ष उनके 65 लड़ाके मुठभेड़ में मारे गए हैं,26 नवंबर 2018 को जारी विज्ञप्ति में प्रवक्ता ने 2 से 8 दिसंबर तक पीएलजीए की स्थापना दिवस जोश खरोश से मनाने की अपील भी की है,गणेश के जारी विज्ञप्ति के माध्यम से बताया है कि केंद्रीय कमेटी व पोलितब्यूरो सदस्य अरविंद की गंभीर बीमारी के बाद 65 साल की उम्र में मौत हुई है,इसके अलावा तेलंगाना बॉर्डर तड़पाल में प्रभाकर सहित दरभा डिविजनल के पाली,सीनू,नंदू,साईनाथ,लता,कैलाश मीना,रोशनी,सहित 10 नक्सली  मुठभेड़ में मारे गए हैं,इस तरह सितंबर 2017 से 2018 के बीच उनके 65 लड़ाके ढेर हुए हैं,मारे गए इन नक्सलियों में आयाम क्रांति,डोडी,बुधराम ओयाम,रुकनी,जैनी, ओयाम कामा,हिरदो भिमाल,वजाम हिड़मे, इसके अलावासोढ़ी सीताल,सोढ़ी लखपाल,उइके माड़ा,नुप्पो मुत्तल,दरभा डिविजनल के उधम सिंह,मरकाम सुकराम,ज्योति सहित अन्य नक्सली मारे गए हैं.गणेश उइके ने साल भर में मारे गए सभी नक्सलियों को शहीद करार दिया है,प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से प्रवक्ता ने कई फर्जी मुठभेड़ फोर्स के द्वारा किए जाने की बात लिखी है,मुठभेड़ों का जिक्र करते प्रवक्ता ने आइपेंटा में 8,तिम्मेदम मुठभेड़ में 8 और क़सानपुर मुठभेड़ में 40 नक्सलियों के मारे जाने की बात कबूल की है साथ ही नुलकातोंग में 15 आम ग्रामीणों को फोर्स द्वारा मारे जाने का आरोप लगाया है.इसके अलावा प्रवक्ता ने 2 दिसंबर से 8 दिसंबर तक मुक्ति छापामार सेना की 18वीं स्थापना वर्षगांठ गांव गांव, पंचायतों,एरिया,डिविजनल स्तर में मनाने की अपील की है.
200 से अधिक नक्सली मारे गये- डांगी 
डीआईजी रतन लाल डांगी ने गणेश उइके के दिये आकड़ो को झूठा करार देते बताया की एक साल में लगभग 200 नक्सली मारे गये है उनमे से 125 शवों को बरामद किया गया है,उन्होंने कहा है की कई नक्सलियों के शवों को वो ले जाने में कामयाब हो जाते है और दफना देते है जिसका हिसाब नहीं है पर इन एक साल में नक्सलियों को भारी नुकशान हुआ है और आगे भी नुकशान होगा,बस्तर में जल्द नक्सलवाद का खात्मा होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *