माओवादी नक्सली संगठन द्वारा चुनाव-बहिष्कार

नारायणपुर/ (करीम)  नक्सली संगठन आगामी 12 नवंबर को होने जाने से विधान सभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार किया है , वहीं माड़ क्षेत्रों मे बैठक लेकर ग्रामीणो को मतदान नहीं करने के लिए उकसा रहें है । वहीं दूसरी ओर पुलिस के जवान इन गांवो में मतदान करने के लिए अबूझमाड़ियों को प्रेरित कर रहें हैं, एक ओर मतदान नहीं करने का धमकी । दूसरी ओर केन्द्रीय सुरक्षा के जवान मतदान करने के लिए अबूझमाड़ियों को प्रेरित किया जाना । इस आशाय से अबूझमाड़ियों में संशय की स्थिती बनी हुई है।

घायल जवान की स्थिति गंभीर

वहीं माओवादियों के बड़े लीडर अंदरूनी क्षेत्र के गंावों में कदम ताल कर ग्रामीणांे की बैठक लेकर बंदुक की नोक पर वोटिंग नहीं करने का फरमान जारी कर रहें हैं।
माओवादियों ने अबूझमाड़ के तोके , पालरहूर , कोंगे, गोबान, कोंगाली , जटवर , गारपा , फरसबेड़ा, धूरबेड़ा , कुतुल सहित कई गंाव के ग्रामीणो को मतदान नहीं करने का दबाव दिया जा रहा है । माओवादियों ने अपने फरमान में कहा है कि अगर किसी भी ग्रामीण को मतदान केन्द्र तक पहुचने बात पता चली तो उसकी जन-अदालत पर सजा सुनायी जायेगी । अबूझमाड़ के दूरस्थ अंचल में निवासरत ग्रामीण माओवादियों के फरमान से दहशत में हैं। इस तरह का फरमानों से ग्रामीणों पर क्या मुसीबत आएगी यह तो वक्त ही बतायेगा।
वहीं पुलिस विभाग से अबूझमाड़़ सहित दूरस्थ अंचलों में पुलिस कैंप का संचालन किया जाता है। इस बैस कैम्प के आसपास गांवों में पुलिस विभाग के जवान दस्तक देकर ग्रामीणों को मतदान करने केे लिए प्रेरित कर रहें हैं। इससे अबूझमाड़ के आदिवासी ग्रामीणों को जवान इवीएम सहित वीवीपेट मशीन उपयोग की जानकारी ग्रामीणों को प्रदाकर कर विधान सभा चुनाव में मतदासन करने की शपथ दी जा रही है। इस तरह के आयोजन पुलिस द्वारा प्रत्येक थाना केम्पों के माध्यम से किये जा रहें हैं ताकि ग्रामीणों का भय दूर हो सके । पुलिस पूर्ण सुरक्षा की बात कह रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *