26 से 28 ग्रामीण बैंक रहेंगे बंद, निजीकरण का कर रहे विरोध

  • सरकारी अवकाश, रविवार और आगामी गुरुवार और शुक्रवार मिलाकर सात दिन बैंक रहेगा बंद
  • क्षेत्र में लगभग 35-40 करोड़ का लेनदेन होगा प्रभावित

जगदलपुर. यूनियन फोरम ऑफ़ आरआरबी, ग्रामीण बैंकों की पूंजी का विनिवेश व निजीकरण की कोशिश सहित अन्य दीगर मांगों को लेकर आगामी 26 से 28 मार्च तक हड़ताल में जाने का निर्णय ले रहा है. बता दें की इस हड़ताल से शहर के ग्रामीण बैंक सहित पुरे देश में 56 ग्रामीण बैंकों की हजारों शाखाओं में कामकाज प्रभावित रहेगा.

यूनाइटेड फोरम के संयोजक डीएन त्रिवेदी के मुताबिक नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालय नई दिल्ली में वित्त मंत्रालय, नाबार्ड और यूनाइटेड फोरम ऑफ़ आरआरबी यूनियन के प्रतिनिधियों के बीच कुछ दिन पूर्व हुई बैठक में कोई ठोस निर्णय नहीं निकला. इसी के चलते यूनियन ने उक्त समय में हड़ताल करने का निर्णय लिया है. उक्त मांगों में प्रमुखत: विनिवेश व निजीकरण, अनुकंपा पर नियुक्ति करने, कर्मियों को प्रायोजक बैंकों की तर्ज पर लाभ देने, ठेकेदारी पर बहाली बंद करने, दैनिक मजदूरों की सेवा नियमित करने सहित अन्य कई मांगें शामिल हैं जिसे लेकर यूनियन सरकार का विरोध कर रहा है. विदित हो की 24 को चौथा शनिवार और 25 को रविवार सहित आगामी गुरुवार और शुक्रवार को भी अवकाश होने के चलते कुल सात दिन बैंक बंद रहेगा.

जगदलपुर ग्रामीण बैंक के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक वेणु गोपाल राव ने बताया कि कुल सात दिन बैंक बंद रहेगा. बस्तर के कुल 55 शाखाओं में इस आन्दोलन और सरकारी अवकाश को मिलाकर लगभग 35-40 करोड़ रुपयों के लेनदेन प्रभावित होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *